Advertisement

EAT NUTRITIOUS BROCCOLI AND BENEFITS OF BROCCOLI?

ब्रोकली के फायदे? Broccoli  in Hindi

Broccoli में प्रोटीन, कैल्शियम, कार्बोहाइड्रेट, आयरन, विटामिन ए और सी व कई अन्य तरह के पोषक तत्व प्रचुर मात्रा में पाए जाते हैं, जो आपको हृदय रोग, आंखों की समस्या, पाचन व मधुमेह की समस्या आदि से दूर रखने में सहायक है. यह कैस्ट्रॉल के स्तर को कम कर रक्तचाप को भी नियंत्रित करता है.

अगर फूलगोभी व बांध गोभी खा-खा कर बोर हो चुके हैं, तो आपको ब्रोकली की सब्जी खानी चाहिए, जो आपको इस मौसम में बाजार में हर जगह सहज उपलब्ध है. यह कई पोषक तत्वों से भरपूर है. अपने स्वास्थ्य के प्रति सचेत और वजन कम करने की इच्छा रखने वाले लोगों के लिए ब्रोकली बेहतर विकल्प है.

यह भूमध्यसागरीय उपज है. ब्रोकली नाम इतालवी शब्द ब्रोक कोलो से आया है, जिसका मतलब है- गोभी के फूल कि शाखा. हालांकि भारतीय खानपान में कम लोकप्रिय है, मगर इसके फायदे जानेंगे तो इसे रोज के डायट में जरूर शामिल करेंगे.

यह गहरी हरे रंग की सब्जी, ब्रेसिक्का फैमिली की है, जिसमें पत्ता गोभी वा गोभी भी शामिल है, मगर यह स्वाद में उनसे अलग है. इसे पकाकर या कच्चा भी खा सकते हैं, मगर उबालकर खाना ज्यादा सही है. इसमें शक्तिशाली फाइटोकेमिकल होते हैं, जो कैंसर जैसे घातक रोग से लड़ने में मदद करते हैं.

ब्रोकली की खाने के फायदे broccoli benefits in Hindi

दिल के लिए: ब्रोकली में सेलेनियम और ग्लूकोसिनलेट्स अधिक मात्रा में पाए जाते हैं, जो शरीर में प्रोटीन की मात्रा को बढ़ाकर आपके हृदय को स्वस्थ रखते हैं. इसमें मौजूद कैरेटेनॉएड्स lutein दिल की धमनियों को स्वस्थ स्वस्थ रखता है, जिससे दिल का दौरा पड़ने और अन्य रोगों की आशंका कम हो जाती है. इसमें मौजूद पोटेशियम कोलेस्ट्रॉल के स्तर को बढ़ने में नहीं देता.
कैंसर रोधी: इसमें फिताकैमिकल अधिक मात्रा में होता है, जो शरीर से विषाक्त पदार्थों को बाहर करता है. वही सल्फोराफ़ने कैंसर को होने से रोकने में अहम है. यह कई रोगों से बचाने के साथ ब्रेस्ट कैंसर और प्रोस्टेट कैंसर के खतरे को कम करती है.
Weight control: ब्रोकली में विटामिन-सी और एंटीऑक्सीडेंट होता है, जो चर्बी को घटाने में मददगार है. जबकि विटामिन-सी की पर्याप्त मात्रा शरीर में इम्यून सिस्टम को बूस्ट करने और संक्रमण से बचाव में मदद करती है.
गर्भावस्था में : गर्भवती महिलाओं को नियमित ब्रोकली का सेवन इसलिए करना चाहिए, क्योंकि इसमें मौजूद तत्व ना केवल बच्चे के विकास के लिए फायदेमंद है, बल्कि मां को भी कई संक्रमण से दूर रखते हैं. इसमें फोलेट की भरपूर मात्रा भूर्ण में मस्तिष्क संबंधी दोषों को रोकने में मदद करती है. हालांकि गर्भावस्था में बिना डॉक्टर की सलाह के इसका सेवन ना करें.
लीवर व हड्डियों के लिए : ब्रोकली मैं सल्फोराफ़ने फैटी लीवर की समस्या से बचाता है, जबकि विटामिन-के कैल्शियम, पोटेशियम और मैग्नीशियम आपकी हड्डियों और दातों के लिए फायदेमंद है. lutein और जियाजैथिन जैसे गुण आंखो की कमजोरी दूर करते हैं..

ब्रोकली के प्रकार – Types of Broccoli in Hindi

यहां हम आपको ब्रोकली के बारे में जानकारी दे रहे हैं कि यह कितने प्रकार की होती है और किस तरह की दिखाई देती है।

  1. केलाब्रेसी ब्रोकली (Calabrese broccoli)– ब्रोकली की इस प्रजाति का नाम इटली के मशहूर शहर कालाब्रिया के नाम पर पड़ा है। इसका ऊपरी भाग गहरा हरा रंग का होता है। इसे ठंड के दिनों में या ठंडी जगह पर उगाया जाता है।
  2. ब्रोकली रेब (Broccoli rabe)– ब्रोकली रेब को ब्रोकली रॉब के नाम से भी जाना जाता है। यह पालक की तरह पत्तेदार होती है।
  3. ब्रोकोफ्लोवर (Broccoflower)– यह ब्रोकली की तरह कम और फूलगोभी की तरह ज्यादा दिखती है। इसका स्वाद भी कुछ-कुछ फूलगोभी की तरह होता है।
  4. अंकुरित ब्रोकली (Sprouting broccoli)– इसका ऊपरी भाग फैला हुआ होता है और इसमें कई डंठल होते हैं।
  5. गई-लन ब्रोकली (Gai-lan) – इसे चायनीज ब्रोकली के नाम से भी जाना जाता है। यह लंबी और पत्तेदार होती है और सामान्य ब्रोकली की तुलना में ज्यादा पौष्टिक होती है।
  6. पर्पल कॉलीफ्लॉवर (Purple cauliflower) – पर्पल ब्रोकली भी ब्रोकली का एक प्रकार है। यह बैंगनी रंग की होती है। इसे अमेरिका और यूरोप में ज्यादा उपयोग किया जाता है।

जैसा कि आपने अभी ब्रोकली के प्रकार पढ़े और अब आगे हम आपको ब्रोकली से होने वाले फायदों के बारे में बता रहे हैं।

ब्रोकली खाने के तरीके broccoli recipe in Hindi

ब्रोकली को सब्जी की तरह खाया जा सकता है और चिकन, अंडे के साथ भी मिलाकर बनाया जा सकता है. इसका सूप बना सकते हैं या उबालकर भी खा सकते हैं. फिटनेस के शौकीन इसे सालाद या अंकुरित रूप में खा सकते हैं. ब्रोकली को पास्ता और नूडल्स में मिक्स किया जाए, तो ना सिर्फ स्वाद बढ़ता है, बल्कि जरूरी पोषक तत्व भी मिल जाते हैं

Post a comment

0 Comments